कोविशिल्ड: नए साल पर खुशखबरी … देश को मिला पहला कोरोना वैक्सीन

0
259

नए साल का पहला दिन कोरोना महामारी से जूझ रहे देश के लिए बड़ी राहत लेकर आया। शुक्रवार को, देश को कोविल्ड के रूप में अपना पहला कोरोना वैक्सीन मिला।

विशेषज्ञ समिति ने सीरम संस्थान के कोविशिल्ड वैक्सीन के आपातकालीन उपयोग की सशर्त मंजूरी की सिफारिश की। अब इसे भारतीय चिकित्सा महानियंत्रक की हरी झंडी की आवश्यकता है, जहां से अनुमोदन निर्धारित है। वहीं, टीकाकरण की तैयारियों का परीक्षण करने के लिए शनिवार को देशव्यापी रिहर्सल होगी।

केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन के कोविद -19 की विशेषज्ञ समिति की शुक्रवार को बैठक हुई। सबसे पहले, यह अमेरिकी कंपनी फाइजर के टीके में चर्चा की गई थी। इसके बाद भारत बायोटेक के सीरम और वैक्सीन पर चर्चा हुई।

इस दौरान सभी विशेषज्ञ कोविशिल्ड के आपातकालीन उपयोग पर सहमत हुए। समिति में मौजूद एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, "सिफारिशों के आधार पर कोविशल्ड को ड्रग कंट्रोलर जनरल द्वारा अनुमोदित किए जाने की पूरी उम्मीद है।

दुनिया की सबसे बड़ी वैक्सीन निर्माता सीरम ने कोविशल्ड के उत्पादन के लिए एस्ट्राजेनेका के साथ समझौता किया है। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा विकसित और एस्ट्राजेनेका द्वारा निर्मित वैक्सीन को बुधवार को ब्रिटेन की मेडिसिन एंड हेल्थकेयर प्रोडक्ट्स रेगुलेटरी एजेंसी ने मंजूरी दे दी।

सीरम ने कोविशिल्ड की पांच मिलियन खुराक बनाने का दावा किया है। कंपनी का लक्ष्य मार्च तक 100 मिलियन खुराक का उत्पादन करना है।

पहले चरण में 300 मिलियन लोगों ने टीकाकरण किया
अधिकांश राज्यों द्वारा कोविद की वेबसाइट पर आपातकालीन उपयोग के लिए टीकाकरण किए जाने वाले लोगों की सूची अपलोड की गई है। इसके दायरे में 300 मिलियन लोग हैं जिन्हें पहले चरण में टीका लगाया जाएगा। स्वास्थ्य कार्यकर्ता, सुरक्षा बल, नगरसेवक, 50 वर्ष या उससे अधिक आयु के लोग और पहले से ही बीमार व्यक्तियों को टीका मिलेगा।

देशव्यापी रिहर्सल आज, तैयारी पूरी: हर्षवर्धन
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ। हर्षवर्धन ने शुक्रवार को कहा, टीकाकरण के पहले चरण की तैयारी पूरी कर ली गई है। शनिवार को सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में टीकाकरण एक पूर्वाभ्यास होगा।

दुनिया के सबसे बड़े वयस्क टीकाकरण कार्यक्रम को चुनाव की तर्ज पर पूरी तैयारी की आवश्यकता है। हर राज्य में कम से कम तीन केंद्रों पर रिहर्सल होगी। इस दौरान किसी को भी टीका नहीं लगेगा लेकिन टीकाकरण की सभी प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

कोरोना वैक्सीन नियंत्रण से बाहर हो जाएगा
केंद्र सरकार ने बिना किसी मूल्य सीमा के कोरोना वैक्सीन के आयात-निर्यात को मंजूरी दे दी है ताकि निर्बाध वितरण हो सके। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड ने एक्सप्रेस कार्गो प्रणाली के संचालन में आने वाले स्थानों पर कोरियर से टीकों के आयात और निर्यात के लिए यह छूट दी है।

अमेरिका, रूस और ब्रिटेन में टीकाकरण शुरू हुआ
ब्रिटेन, रूस और अमेरिका में टीकाकरण शुरू हो गया है। इसके अलावा, बहरीन, सिंगापुर, कनाडा, सऊदी अरब, मैक्सिको, यूएई और इजरायल को भी मंजूरी दी गई है। अमेरिका में फाइजर और मॉडर्न वैक्सीन के आपातकालीन उपयोग की अनुमति दी गई है। यूके ने Pfizer और AstraZeneca टीकों को मंजूरी दे दी है।

चीन ने हाल ही में शर्तों के साथ स्वदेशी सूचनाओं को भी मंजूरी दी है। रूस में स्पुतनिक -5 का टीकाकरण शुरू हो गया है। कनाडा ने फाइजर और बायोटेक वैक्सीन को मंजूरी दे दी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here