कोरोनावायरस: मास्क पहनने से कोरोना का खतरा कम नहीं होगा, यह काम भी करना होगा, अध्ययन में पता चला

0
534

कोरोनोवायरस से बचाव के लिए कई देशों में टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है, लेकिन वैज्ञानिक यह भी कह रहे हैं कि टीका लेना ही पर्याप्त नहीं होगा, बल्कि मास्क पहनना भी आवश्यक है। अब नए अध्ययन में यह दावा किया जा रहा है कि संक्रमण से बचने के लिए न केवल मास्क पहनना काफी हो सकता है, बल्कि शारीरिक दूरी का पालन करना भी आवश्यक है। यह शोध फिजिक्स ऑफ फ्लूइड नामक पत्रिका में प्रकाशित हुआ है।

दरअसल, शोधकर्ताओं ने कोरोना से बचाने के लिए पांच प्रकार के पदार्थों से बने मास्क के प्रभाव का अध्ययन किया और खांसी के साथ वायरस-युक्त बूंदों के प्रसार का अध्ययन किया। उनके अनुसार, विभिन्न प्रकार के मुखौटे वायरस-युक्त बूंदों को फैलने से रोकते हैं।

शोधकर्ताओं के अनुसार, यदि कोई संक्रमित व्यक्ति खांसता या छींकता है, तो वायरस से निकलने वाली कुछ बूंदें दूसरे व्यक्ति को भी बीमार कर सकती हैं। ऐसी स्थिति में वायरस से सुरक्षित रहने के लिए छह फीट की दूरी तय करनी चाहिए।

शोधकर्ताओं ने कहा कि संक्रमित व्यक्ति के सिर्फ एक छींकने से 200 मिलियन वायरस के कण उसके मुंह से बाहर आते हैं। इन कणों में से ज्यादातर को मास्क से रोका जा सकता है, लेकिन इसके बावजूद कुछ ऐसे कण होते हैं जो मास्क को भी पास कर सकते हैं और अगर ऐसा होता है, तो पास में खड़ा दूसरा व्यक्ति भी कोरोना से संक्रमित हो सकता है।

शोधकर्ताओं ने वायरस युक्त कणों को पांच प्रकार की वस्तुओं से बने मास्क से रोकने की कोशिश की, जिनमें सर्जिकल मास्क, सामान्य कपड़े से बने मास्क, दो-परत वाले कपड़े मास्क, दो-परत गीले नियमित कपड़े और एन -95 मास्क शामिल हैं।

शोधकर्ताओं ने बताया कि सभी प्रकार के मास्क में बड़ी मात्रा में वायरस युक्त बूंदें होती हैं, लेकिन अंततः 3.6 प्रतिशत बूंदें सामान्य कपड़ों से बने मास्क से आगे निकल गईं, जबकि एन -95 मास्क 100 प्रतिशत सफल रहा। बाहर ही रोक दिया।

कैसे किया गया शोध?

शोधकर्ताओं ने पहली बार एक मशीन बनाने के लिए एयर जनरेटर का इस्तेमाल किया जो मानव छींकने और खांसने की नकल कर सकता है। इसके बाद, जनरेटर के उपयोग से सूक्ष्म कणों को एक कैमरा के साथ बंद ट्यूब से लेजर शीट द्वारा हवा में छोड़ा जा सकता है, जैसे कि खांसी और छींक के दौरान मुंह से निकलने वाले कण। वैज्ञानिकों ने तब निष्कर्ष निकाला कि वायरस को फैलने से रोकने के लिए मास्क और सुरक्षित भौतिक दूरी दोनों आवश्यक हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here